शायरी का लफ्ज जहन में आते ही अनेकों शायरियां याद आने लगती हैं। ऐसे में अगर शायरी अपने मेहबूब को सुनानी हो तो उसकी जुल्फों का जिक्र तो जरूर करना पड़ेगा। तो पेश है आज आपके सामने ज़ुल्फ़ पर लिखी गई कुछ शानदार शायरियां (Best zulf shayari) जो आप अपने lover को भी सुना सकते हैं।

Zulf shayari

जुल्फ शायरी –                                    जुल्फों में बीती सुबह                                             

जुल्फों में उसकी बीती मेरी सुबह
जुल्फों में ही उसकी मेरी शाम थी
और क्या बताऊ जिंदगी के बारे में
मेरी तो सारी उम्र बस उस ही के नाम थी…

Zulf shayari –                                   Zulfon me beeti subha                                    

Zulfon me uski beeti meri subha
Zulfon me hi uski meri shaam thi
Or kya batau zindgi ke baare me
Meri to saari umar bas us hi ke naam thi…

 


 

जुल्फ शायरी –                                        जुल्फों की सैर                                                  

वो बैठा ये अपनी खिड़की खोलकर
दिलकश हवा खाने के लिए
हम भी सामने खड़े हो गए
उसे अपनी जुल्फों की सैर कराने के लिए…

Zulf shayari –                                        Zulfon ki sair                                               

Wo baitha ye apni khidki khol kar
Dilkash hawa khane ke liye
Hum bhi samne khade ho gaye
Use apni zulfon ki sair karane ke liye…

 


 

जुल्फ शायरी –                                    जुल्फों की किरणों का साँवेरा                                 

तुझे देखते ही मेरा दिल तेरा हो गया
ना चाहते हुए भी यहाँ अँधेरा हो गया
रात आई तो थी इस जमीन पर मगर
तेरी जुल्फों की किरणों का साँवेरा हो गया…

Zulf shayari  –                                  Zulfon ki kirno ka sawera                               

Tujhe dekhte hi mera dil tera ho gaya
Naa chahte huye bhi yahan andhera ho gaya
Raat aai to thi is jameen par magar
Teri zulfon ki kirno ka sawera ho gaya…

 


 

जुल्फ शायरी –                                          जुल्फों में सजा लो                                           

अपनी जुल्फों में सजा लो तुम मेरे जख्मो के गुलाब
तुम्हारी बिखरी हुई जुल्फों को देखा नहीं जाता
मैंने तो तुमको बिठाया था कभी डोली में
क्या तुमसे मेरा जनाजा भी देखा नहीं जाता…

Zulf shayari                                         Zulfon me saja lo                                       

Apni zulfon me saja lo tum mere jakhmon ke gulaab
Tumhari bikhri hui julfon ko dekha nahi jata
Maine to tumko bithaya tha kabhi doli me
Kya tumse mera janaja bhi dekha nahi jata…

 


जुल्फ शायरी –                                             जुल्फ के दीवाने                                           

मोहतरमा आपकी जुल्फ के हजारों दीवाने हैं
दिल तो एक है मगर हजारों अफ़साने हैं
अब प्यार भी मिल जाये इस दिल को अगर
फिर तो हर तरफ प्यार के तराने ही तराने हैं…

Zulf shayari                                             Zulf ke deewane                                    

Mohtarma aapki zulf ke hajoro deewane hain
Dil to ek hai magar hajoro afsane hain
Ab pyar bhi mil jaye is dil ko agar
Fir to har taraf pyaar ke tarane hi tarane hain…

 


 

जुल्फ शायरी –                                       जुल्फ थी या क्या था                                           

जुल्फ थी उसकी या क्या था बताऊ में कैसे
मुझे तो घायल कर गई मानो तलवार हो जैसे…

Zulf shayari                                        Zulf thi ya kya tha                                       

Zulf thi uski ya kya tha batau me kaise
Mujhe to ghayal kar gai maano talwar ho jaise…

 


 

जुल्फ शायरी –                                       जुल्फों को गिराया ना करो                                  

जुखाकर अपनी नजरे तुम इस तरह मुस्कुराया ना करो
मेरी नजरों से तुम खुदको यूं बचाया ना करो
अपनी जुल्फों को यूं गालों पर गिराया ना करो
बेचैन मेरे दिल को तुम इस तरह सताया ना करो…

Zulf shayari                                    Zulfon ko giraya naa karo                             

Jukha kar apni najre tum is tarah muskuraya naa karo
Meri najron se tum khudko yu bachaya naa karo
Apni zulfon ko yu gaalo par giraya naa karo
Bechen mere dil ko tum is tarah sataya naa karo…

 


 

जुल्फ शायरी –                                       जुल्फों में संवर कर                                             

हर घड़ी हूँ साथ तेरे भंवरा बन कर
हर जन्म में रहूंगा तेरी जुल्फों में संवर कर
यूं इस तरह जब प्यार भरी नजरों से देखा तूने
मोहब्बत का ये नशा अब नहीं उतरेगा उम्र भर…

Zulf shayari                                      Zulfon me sawar kar                                    

Har ghadi hu sath tere bhanwra ban kar
Har janam me rahunga teri zulfon me sawar kar
Yu is tarah jab pyaar bhari najron se dekha tune
Mohabbat ka ye nasha ab nahi utrega umar bhar…

 


 

जुल्फ शायरी –                                        जुल्फों के साये से                                              

गिराकर जुल्फों के साये से तूने जो अँधेरा किया
उठाकर नजरो से हाय ये दिल तूने कहाँ रख लिया
दिखाकर जलवा अपना हमें तूने दीवाना बना दिया
मिलकर साथ मेरे जो तूने प्यार का अफसाना बना दिया…

Zulf shayari                                       Zulfon ke saaye se                                      

Gira kar zulfon ke saaye se tune jo andhera kiya
Utha kar nazro se haay ye dil tune kaha rakh liya
Dikha kar jalwa apna hame tune deewana bana diya
Mil kar sath mere jo tune pyaar ka afsana bana diya…

 


 

जुल्फ शायरी –                                        जुल्फों का कमाल                                             

शराब का नहीं ये तो उसकी जुल्फों का कमाल है
जब से देखा है उसका हुस्न मेरा हाल ही बेहाल है
क्या बताऊ यारों कैसी थी वो
कोई अप्सरा थी या थी कोई परी खुदा से बस मेरा यही सवाल है…

Zulf shayari                                       Zulfon ka kamaal                                         

Sharab ka nahi ye to uski zulfon ka kamaal hai
Jab se dekha hai uska husn mera haal hi behaal hai
Kya batau yaaron kaisi thi wo
Koi apsara thi ya thi koi pari khuda se bas mera yahi sawaal hai…

 


 

जुल्फ शायरी –                                      उसकी जुल्फें काफी है                                         

हुस्न की क्या बात करते हो
दीवाना बनाने के लिए तो उसकी जुल्फें ही काफी है
क़त्ल वो निगाहों से ही कर देती है जनाब
इसलिए बच के तुम रहना क्युकी उसे तो हर क़त्ल की माफ़ी है…

Zulf shayari                                    Uski zulfen kaafi hai                                       

Husn ki kya baat karte ho
Deewana banane ke liye to uski zulfen hi kaafi hai
Katl wo nigaho se hi kar deti hai janab
Isliye bach ke tum rehna kyuki use to har katl ki maafi hai…

 


 

जुल्फ शायरी –                                    जुल्फों को चांदनी में संवारा                                    

चंद लम्हा जिंदगी का जो हमने तेरे पास गुजारा
तेरी बिखरी जुल्फों को जब हमने चांदनी में संवारा
चमक देख तेरे चेहरे की लगा ये है जन्नत का नजारा
वही जन्नत अब ढून्ढ रहा है मेरा दिल ये आवारा…

Zulf shayari                               Zulfon ko chandni me sawara                            

Chand lamha zindgi ka jo humne tere paas guzara
Teri bikhri zulfon ko jab humne chandni me sawara
Chamak dekh tere chehre ki laga ye hai jannat ka najara
Wahi jannat ab dhoond raha hai mera dil ye awara…

 


 

जुल्फ शायरी –                                         जुल्फों का असर                                              

शराब का नशा नहीं ये उसकी जुल्फों का असर था
डूब के जिसमे मैं जिंदगी के गम ही हजार भूल गया…

Zulf shayari                                         Zulfon ka asar                                            

Sharab ka nasha nahi ye uski zulfon ka asar tha
Doob ke jisme main zindgi ke gam hi hajar bhool gaya…

 


 

जुल्फ शायरी –                                           जुल्फे ज़माने में                                              

बहक गए हम तेरे महखाने में
देखी नहीं है तेरी जैसी जुल्फे ज़माने में
हटाओ पर्दा दिखाओ चाँद का टुकड़ा
हल चल मच जाये दिल के वीराने में…

Zulf shayari                                         Zulfe jamane me                                        

Bahak gaye hum tere mehkhane me
Dekhi nahi hai teri jaisi zulfe jamane me
Hatao parda dikhao chand ka tukda
Hal chal mach jaye dil ke veerane me…

 


 

जुल्फ शायरी –                                          जुल्फ घनेरी शाम                                            

चेहरा है या चाँद खिला है
जुल्फ घनेरी शाम है क्या
सागर जैसी आँखों वाली
ये तो बता तेरा नाम है क्या?

Zulf shayari                                       Zulf ghaneri shaam                                     

Chehra hai ya chand khila hai
Zulf ghaneri shaam hai kya
Sagar jaisi aankhon wali
Ye to bata thera naam hai kya?

 


 

जुल्फ शायरी –                                          जुल्फों में किनारा                                            

सफर के वक़्त जिंदगी को तेरा ही सहारा था
मत पूछ कितनो ने इस दिल को उजड़ा था
तुम्हारे पास ही आ कर मैं इस कदर ठहरा था
तेरी जुल्फों में ही मेरी मंजिल का आखिरी किनारा था…

Zulf shayari                                         Zulfon me kinara                                       

Safar ke waqt jindgi ko tera hi sahara tha
Mat pooch kitno ne is dil ko ujada tha
Tumhare paas hi aa kar main is kadar thehra tha
Teri zulfon me hi meri manjil ka aakhiri kinara tha…

 


 

जुल्फ शायरी –                                        जुल्फों में दिल खो दिया                                     

आपकी जुल्फों में हमने अपना दिल खो दिया
अपनी कश्ती को किनारे पर ला कर डुबो दिया
जिंदगी के साज थिरके तो बहुत थे मगर
आह भी ना कर सके हम जब दर्द तूने हमें दिया…

Zulf shayari                                      Zulfon me dil kho diya                                 

Aapki zulfon me humne apna dil kho diya
Apni kashti ko kinare per la kar dubo diya
Zindgi ke saaj thirke to bahut the magar
Aah bhi naa kar sake hum jab dard tune hame diya…

 


 

जुल्फ शायरी –                                        घटा को जुल्फ लिखना                                      

घटा को जुल्फ शाख को अंगड़ाई लिखना
हर एक मौसम को उसके हुस्न की परछाई लिखना
हमें एक बार और पीला दे जी भरके सारी
फिर भले ही हमारे नाम सारे शहर की रुस्वाई लिखना…

Zulf shayari                                       Ghata ko zulf likhna                                    

Ghata ko zulf shaakh ko angdaai likhna
Har ek mausam ko uske husn ki parchaai likhna
Hamen ek baar or pila de ji bharke saari
Fir bhale hi hamare naam saare shahar ki ruswaai likhna…

 


 

जुल्फ शायरी –                                        घटा की तरह जुल्फें                                           

ऐसी बाते कहकर हमको सताइए ना
चेहरे से पर्दा अपना खुलकर हटाइए ना
काली घटा की तरह जुल्फें लेहराइए ना
आप दूर क्या खड़ी हो सीने से हमारे लग जाइए ना…

Zulf shayari                                      Ghata ki tarah zulfen                                    

Aisi baate kehkar humko sataeye naa
Chehre se parda apna khulkar hataeye naa
Kaali ghata ki tarah zulfen lehraiye naa
Aap door kya khadi ho seene se hamare lag jaeye naa…

 


 

जुल्फ शायरी –                                      जुल्फों में शामियाना बना                                     

सफर जब करा तब यह अफसाना बना
तेरे प्यार में मेरा दिल दीवाना बना
यहाँ रास्ते से गुजरे अनेकों मगर
तेरी जुल्फों में ही मेरा शामियाना बना…

Zulf shayari                                   Zulfon me shamiyana bana                            

Safar jab kara tab yah afsana bana
Tere pyaar me mera dil deewana bana
Yahan raaste se gujre anekon magar
Teri zulfon me hi mera shamiyana bana…

 

तो दोस्तों आपको शायरी कैसी लगी नीचे कमेंट करके अवश्य बताइए। इस पोस्ट को शेयर करें और ऐसे ही शायरियाँ पड़ते रहने के लिए हमें सोशल मीडिया पर फॉलो करें व ऊपर दिए नोटिफिकेशन पर Allow का बटन दबा कर अन्य शायरियों का लुफ्त उठाएं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here