मौत वो है जिससे हर इंसान दूर भागना चाहता है पर ये प्रकर्ति का नियम है जिसे कोई बदल नहीं सकता और जिससे इंसान कितना भी भागे पर बच नहीं सकता। कई शायरों ने मौत लफ्ज़ पर एक से एक शायरी लिखी हैं जिनमे से आज हम आपके सामने कुछ ख़ास शायरी पेश करने जा रहे हैं।

 

Maut shayari in hindi

मौत शायरी –                                    मौत की चिंता                                                         

मौत की चिंता नहीं सताती मुझे
मेरे सपनों का अधूरापन सताता है
आज भी दिल में जल रही है आग
मेरा जूनून बताता है…

Maut shayari –                                  Maut ki chinta                                                 

Maut ki chinta nahi satati mujhe
Mere sapno ka adhurapan satata hai
Aaj bhi dil me jal rahi hai aag
Mera junoon batata hai…

 


 

मौत शायरी –                                        इस तरह नहीं मरेंगे                                             

सैकड़ों गम के बादल हमें अभी उठाने है
उनके हर बार के खंजर अभी आजमाने है
इस तरह नहीं मरेंगे हम मेरे अजीजों
दम निकलने के भी तो हजारो बहाने है…

Maut shayari                                  Is tarah nahi marenge                                    

Sakdo gum ke badal hame abhi uthane hai
Unke har baar ke khanjar abhi aajmane hai
Is tarah nahi marenge hum mere ajeejo
Dum nikalne ke bhi to hajaro bahane hai…

 


 

मौत शायरी –                                        मर कर भी तड़पती हूँ                                          

मर कर भी तड़पती हूँ तेरे इंतजार में
आग लग गई है इस दिले बेक़रार में
मिलने में क्या मजा है जो है इंतज़ार में
दर्द उभरता है कदम रखते ही प्यार में…

Maut shayari –                                  Mar kar bhi tadapti hu                                    

Mar kar bhi tadapti hu tere intejaar me
Aag lag gai hai is dile bekaraar me
Milne me kya maja hai jo hai intzar me
Dard ubharta hai kadam rakhte hi pyaar me…

 


 

मौत शायरी –                                        मौत का पैगाम                                                    

क्या पता कब मौत का पैगाम आ जाये
ज़िंदगी की आखिरी कब शाम हो जाये
मैं तो ढूंढता हूँ ऐसे मौके को ऐ दोस्त
की मेरी जिंदगी भी किसी के काम आ जाये…

Maut shayari –                                  Maut ka paigam                                              

Kya pata kab maut ka paigam aa jaye
Zindgi ki kab aakhiri sham ho jaye
Main to dhoondta hoon aise mauke ko ae dost
Ki meri zindgi bhi kisi ke kaam aa jaye…

 


 

मौत शायरी –                                        मैं मरा तो मर जाएगी तन्हाई                                 

मेरे बाद किधर जाएगी मेरी तन्हाई
मैं जो मरा तो मर जाएगी मेरी तन्हाई
जब मैं रो रो कर दरिया बन जाऊंगा सनम
उस दिन यार उतर जाएगी मेरी तन्हाई…

Maut shayari –                                  Me mara to mar jayegi tanhai                        

Mere baad kidhar jayegi meri tanhai
Me jo mara to mar jayegi meri tanhai
Jab main ro ro kar dariya ban jauga sanam
Us din yaar utar jayegi meri tanahai…

 


 

मौत शायरी –                                        मेरी अर्थी                                                           

मेरी अर्थी पर दाल देना
अपना लाल दुपट्टा कफ़न समझ कर
आराम से सो सकूंगा कब्र में मैं
अपने हाथ में तेरा दामन समझ कर…

Maut shayari –                                  Meri arthi                                                         

Meri arthi par daal dena
Apna laal dupatta kafan samajh kar
Aaram se so sakunga kabr me main
Apne haath me tera daman samajh kar…

 


 

मौत शायरी –                                        तेरी मौत का गम                                                 

तेरी मौत का ये गम हम सह लेंगे
नसीब में ही नहीं था तू दिल को ये कह लेंगे
तू तो शुरू से ही ख्वाबों में रहा है मेरे
उसी ख्वाबों में अब हम सारी उम्र रह लेंगे…

Maut shayari –                                  Teri maut ka gum                                            

Teri maut ka ye gum hum seh lenge
Naseeb me hi nahi tha tu dil ko ye keh lenge
Tu toh shuru se hi khwabon me raha hai mere
Usi khwabon me ab hum saari umr reh lenge…

 


 

मौत शायरी –                                        मौत मांगते है                                                      

मौत मांगते है तो ज़िन्दगी खफा हो जाती है
जहर लेते है तो वो भी दवा हो जाती है
तु बता ऐ ज़िन्दगी तेरा क्या करू
जिसको भी चाहा वो बेवफा हो जाती है…

Maut shayari –                                  Maut maangte hai                                           

Maut maangte hai to zindgi khafa ho jaati hai
Jahar lete hain to wo bhi dava ho jaati hai
Tu bata ae zindgi tera kya karu
Jisko bhi chaha wo bewafa ho jaati hai…

 


 

मौत शायरी –                                        बे मौत मारे गए                                                   

प्यार को तेरे ठुकरा न सके दिल ही ऐसा था
बे मौत मारे गए हम वो यार ही ऐसा था
एक आंधी में हम प्यार का धोका खा बैठे
यारो उनकी सूरत का चाँद ही ऐसा था…

Maut shayari –                                  Be maut maare gaye                                      

Pyaar ko tere thukra na sake dil hi aisa tha
Be maut maare gaye hum wo pyaar hi aisa tha
Ek aandhi me hum pyaar ka dhoka kha baithe
Yaaro unki surat ka chaand hi aisa tha…

 


 

मौत शायरी –                                        ज़िंदगी को मौत कह देना                                     

ज़िंदगी को मौत कह देना कोई मुश्किल नहीं
गौर से देखे अगर कोई हमारी ज़िंदगी
रास क्या आये सारा ऐ डहर की रंगीनियां
एक मुसाफिर की तरह गुज़री मैंने ज़िंदगी…

Maut shayari –                                  Zindgi ko maut keh dena                               

Zindgi ko maut keh dena koi mushkil nahi
Gaur se dekhe koi agar hamari zindgi
Raas kya aaye saara ae dahar ki ranginiyan
Ek musafir ki tarah gujari maine zindgi…

 


 

मौत शायरी –                                        मेरा जनाजा                                                       

अपनी जुल्फों में सजा लो तुम मेरे जख्मो के गुलाब
तुम्हारी बिखरी हुई जुल्फों को देखा नहीं जाता
मैंने तो तुमको बिठाया था कभी डोली में
क्या तुमसे मेरा जनाजा भी देखा नहीं जाता…

Maut shayari –                                  Mera janaza                                                     

Apni zulfo me saja lo tum mere zakhmo ke gulaab
Tumhari bikhri hui zulfo ko dekha nahi jaata
Maine tumko bithaya tha kabhi doli me
Kya tumse mera janaza bhi dekha nahi jaata…

 


 

मौत शायरी –                                        मौत आई तब पता चला                                       

तस्वीर तेरी दिल में जिस दिन से उतारी है
उस दिन से ही हालत ख़राब हुई हमारी है
रात दिन तड़पे है ओ लैला तेरे प्यार में
मौत आई तब पता चला जान लेवा ये प्यार की बीमारी है…

Maut shayari –                                  Maut aai tab pata chala                                  

Tasveer teri dil me jis din se utari hai
Us din se hi halat kharab hui hamari hai
Raat din tadapte hai oh lela tere pyaar me
Maut aai tab pata chala jaan leva ye pyaar ki beemari hai…

 


 

मौत शायरी –                                        मेरे मरने के बाद                                                 

मेरे मरने के बाद हमारा प्यार याद करोगे
तेरी दुनिया को छोड़कर अब ना वापस आएंगे
हम भी अपने खुदा के पास तेरा खत दिखाएंगे
तेरी हर एक जुर्म की कहानी अपने रब को सुनाएंगे…

Maut shayari –                                  Mere marne ke baad                                       

Mere marne ke baad hamara pyaar yaad karoge
Teri duniya ko chodkar ab naa vapas aayenge
Hum bhi apne khuda ke paas tera khat dikhayenge
Teri har ek zurm ki kahani apne rab ko sunaege…

 


 

मौत शायरी –                                        गम को मातम ना समझो                                     

तवस्सुम को तुम मेरे, मेरा गम ना समझो
बड़े भोले हो, गम को मातम ना समझो
गलती पहली में हमारी जवानी गुजरी
अब तो मेरी ख़ामोशी को मेरी, मेरा रूठापन ना समझो…

Maut shayari –                                  Gum ko matam na samjho                            

Tavassum ko tum mere, mera gum na sajho
Bade bhole ho, gum ko matam naa samjho
Galti pehli me hamari jawani guzri
Ab to meri khamoshi ko meri, mera ruthapan naa samjho…

 


 

मौत शायरी –                                        प्राण निकलने को तरसे                                        

गम की घटा आये तो फिर झूम के बरसे
बरसे भी ऐसे की ख़ुशी देख के बरसे
मरने का खौफ नहीं बस डर है तो इतना
दर्द ना कम पड़ जाए जिससे प्राण निकलने को तरसे…

Maut shayari –                                  Praan nikalne ko tarse                                   

Gum ki ghata aaye to fir jhoom ke barse
Barse to aise ki khushi dekh ke barse
Marne ka khauf nahi bas dar hai to itna
Dard naa kum pad jaye jisse praan nikalne ko tarse…

 


 

मौत शायरी –                                        कफन में सोते रहे                                               

एक दिन जब हुआ इश्क का एहसास उन्हें
वो हमारे पास आ के सारा दिन रोते रहे
और हम भी इतने खुदगर्ज निकले यारो
आँखे बंद करके कफन में सोते रहे…

Maut shayari –                                  Kafan me sote rahe                                        

Ek din jab hua ishq ka ahsaas unhe
Wo hamare paas aa ke sara din rote rahe
Or hum bhi itne khudgarz nikle yaaro
Aankhe band karke kafan me sote rahe…

 


 

मौत शायरी –                                        मौत के फ़रिश्ते                                                  

चैन तो छिन चुका है अब बस जान जाना बाकी है
अभी मोहब्बत में मेरा इम्तेहान बाकी है
मिल जाना वक़्त पर पर ए मौत के फ़रिश्ते
किसी को गिला है किसी का फरमान बाकी है…

Maut shayari –                                  Maut ke farishtey                                            

Chain to chin chuka hai ab bas jaan jana baaki hai
Abhi mohabbat me mera imtehaan baaki hai
Mil jaana waqt par ae maut ke farishtey
Kisi ko gila hai kisi ka farmaan baaki hai…

 


 

मौत शायरी –                                        मौत तक तू सता ले                                             

तूने बेवफाई की हमसे पर हम ना दगा करेंगे
मौत तक तू सता ले जितना, हम तुझसे कुछ ना कहेंगे
तब होगा तुझे अफ़सोस, जब हम ना इस जहान में रहेंगे
तब कह तू भी कुछ ना पायेगी, बस गम में तेरे आंसू बहेंगे…

Maut shayari –                                  Maut tak tu sata le                                          

Tune ne bewafai ki humse par hum naa daga karenge
Maut tak tu sata le jitna, hum tujhse kuch naa kahenge
Tab hoga tujhe afsos, jab naa is jahan me rahenge
Tab keh tu bhi kuch naa payegi, bas gum me tere aansu bahenge…

 


 

मौत शायरी –                                        ए कब्र                                                                

मर मर के मुसाफिर ने बसाया है तुझे
रुख सबसे फिराके मुँह दिखाया है तुझे
क्यों अब न लिपट कर सोउ तुझसे ए कब्र
अपनी जिंदगी देकर मैंने पाया है तुझे…

Maut shayari –                                  Ae qabr                                                            

Mar mar ke musafir ne basaya hai tujhe
Rukh sabse firaake muh dikhaya hai tujhe
Kyo ab naa lipat kar sou tujhse ae qabr
Apni zindgi dekar maine paya hai tujhe…

 


 

मौत शायरी –                                        मेरी मय्यत                                                 

मुझे गैरों से गिला शिकवा नहीं
यह तो मेरे अपनों की ही चाल है
इधर आंसू है मेरी मय्यत पर सभी के
उधर उनकी डोली का कमाल है…

Maut shayari –                                  Meri maiyaat                                  

Mujhe gairon se gila shikwa nahi
Yaha to mere apno ki hin chaal hai
Idhar aansu hai meri maiyaat par sabhi ke
Udhar unki doli ka kaamal hai…

 

तो दोस्तों आपको शायरी कैसी लगी नीचे कमेंट करके अवश्य बताइए। इस पोस्ट को शेयर करें और ऐसे ही शायरियाँ पड़ते रहने के लिए हमें सोशल मीडिया पर फॉलो करें व ऊपर दिए नोटिफिकेशन पर Allow का बटन दबा कर अन्य शायरियों का लुफ्त उठाएं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here